nielit ccc notes,ccc study material introduction to computer,ccc कम्प्यूटर का परिचय,सीसीसी क्वेश्चन पेपर इन हिंदी विथ आंसर,ccc notes pdf in hindi,book

 

Course on Computer Concepts (CCC),Government of India: National Institute of Electronics & Information Technology(NIELIT),nielit ccc book pdf free download,arihant ccc book pdf,nielit ccc book pdf in hindi download,nielit ccc course pdf,arihant study guide ccc pdf in english,nielit o level study material pdf,ccc book pdf in english 2021,nielit online courses 2020,ccc book pdf in english 2020,ccc notes pdf in english 2021,

ccc book pdf in english 2021,ccc exam material pdf,सीसीसी कंप्यूटर कोर्स बुक डाउनलोड इन हिंदी,सीसीसी प्रैक्टिस सेट Hindi medium,सीसीसी कंप्यूटर कोर्स एग्जाम पेपर,सीसीसी कंप्यूटर कोर्स सिलेबस,CCC Objective Question and Answer PDF in Hindi,सीसीसी प्रीवियस पेपर इन हिंदी पीडीएफ,सीसीसी क्वेश्चन पेपर इन हिंदी विथ आंसर,introduction to computer ccc pdf,introduction to computer ccc pdf in hindi,introduction to computer ccc online test,introduction to computer ccc in hindi,introduction to computer ccc question paper,introduction to computer questions and answers pdf,ccc computer course notes pdf in english,introduction to internet and www ccc

कम्प्यूटर का परिचय

Introduction to Computer

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डेटा प्रोसेसिंग मशीन हैं मतलब कंप्यूटर User से इनपुट के रूप में डेटा को लेता हैं फिर उस डेटा को सेव करता हैं और फिर उस सेव किये गए डेटा को प्रोसेस करके जो भी रिजल्ट आता हैं उसको आउटपुट के रूप में यूज़र को देता हैं और उस रिजल्ट को आवश्यकता पड़ने पर आगे के लिए सेव कर लेता हैं | 

A computer is an electronic data processing machine which means that the computer takes the data as input from the user, then saves that data and then processes the saved data and outputs whatever results it receives to the user. And save that result for further requirements when needed.

Charles Babbage, an English mechanical engineer and polymath, originated the concept of a programmable computer. Considered the "father of the computer",he conceptualized and invented the first mechanical computer in the early 19th century. After working on his revolutionary difference engine, designed to aid in navigational calculations, in 1833 he realized that a much more general design, an Analytical Engine, was possible. The input of programs and data was to be provided to the machine via punched cards, a method being used at the time to direct mechanical looms such as the Jacquard loom. For output, the machine would have a printer, a curve plotter and a bell. The machine would also be able to punch numbers onto cards to be read in later. The Engine incorporated an arithmetic logic unit, control flow in the form of conditional branching and loops, and integrated memory, making it the first design for a general-purpose computer that could be described in modern terms as Turing-complete.

एक अंग्रेजी मैकेनिकल इंजीनियर और पॉलीमैथ चार्ल्स बैबेज ने एक प्रोग्राम योग्य कंप्यूटर की अवधारणा की उत्पत्ति की। "कंप्यूटर के पिता" पर विचार करते हुए, उन्होंने 19 वीं शताब्दी की शुरुआत में पहला यांत्रिक कंप्यूटर की अवधारणा और आविष्कार किया। अपने क्रांतिकारी अंतर इंजन पर काम करने के बाद, 1833 में नौवहन गणनाओं में सहायता के लिए डिज़ाइन किया गया, उन्होंने महसूस किया कि एक अधिक सामान्य डिजाइन, एक विश्लेषणात्मक इंजन, संभव था। प्रोग्राम और डेटा का इनपुट मशीन को छिद्रित कार्ड के माध्यम से प्रदान किया जाना था, एक विधि जिसका उपयोग उस समय किया जा रहा था जैसे कि मैकेनिकल करघों जैसे कि जैक्वार्ड करघा। आउटपुट के लिए, मशीन में एक प्रिंटर, एक वक्र आलेखक और एक घंटी होगी। मशीन बाद में पढ़ने के लिए कार्डों पर संख्याओं को पंच करने में भी सक्षम होगी। इंजन ने एक अंकगणितीय तर्क इकाई, नियंत्रण प्रवाह को सशर्त ब्रांचिंग और लूप और एकीकृत मेमोरी के रूप में शामिल किया, जिससे यह सामान्य प्रयोजन के कंप्यूटर के लिए पहला डिज़ाइन बना, जिसे आधुनिक शब्दों में ट्यूरिंग-पूर्ण के रूप में वर्णित किया जा सकता है।

Characteristics of Computers are likely to be defined or tell the capability of computers:

कम्प्यूटर की विशेषताओं को परिभाषित करने या कम्प्यूटर की क्षमता बताने की संभावना है -

Speed:  A computer is a very fast functioning electronic device that executes a command in a matter of seconds. It solves a task in a part time of a second, whereas a person will be able to solve that task for hours. You may be surprised to know that a computer can execute one million or more instructions in a matter of seconds.

स्पीड : कंप्यूटर एक बहुत ही तीव्र कार्य करने वाला इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है जो किसी निर्देश को पल भर में क्रियान्वित करता है। यह किसी कार्य को सेकेंड के एक भाग समय में ही हल कर देता है जबकि उस कार्य को एक व्यक्ति घंटों तक कही उसे हल कर पायेगा। आपको यह जानकर हैरानी हो सकती है की एक कंप्यूटर एक सेकेंड के समय में एक मिलियन या उससे भी अधिक निर्देशों को क्रियान्वित कर सकता है।

Accuracy:  Computers can do the calculations without errors and very accurately. The degree of accuracy of computer is very high and every calculation is performed with the same accuracy, The accuracy level is determined on the basis of design of computer. The errors in computer are due to human and inaccurate data.

शुद्धता : कंप्यटर बिना कोई गलती किये पूरा सही-सही गणनाएं कर सकता है। इसकी एक्यूरेसी बहुत अधिक है जिससे ये कभी भी कोई गलती नहीं करता और सभा गणनाआ म उसी एक्यूरेसी से करता है। कंप्यूटर में कोई गलती तभी आ सकती है जब व्यक्ति द्वारा गलत इनपुट या निर्देश दिए गए हों।

Diligence: Computers are capable of performing any task given to them repetitively. A computer is free from tiredness, lack of concentration, weakness, etc. It can work for hours without creating

If millions of calculations are to be performed, a computer will perform every calculation with the same accuracy. Due to this capability it overpowers human being in routine type of work.

डिलीगेन्स : कंप्यूटर किसी भी कार्य को बिना थके लगातार कार्य कर सकता है। इसे किसी भी प्रकार का थकान या कमजारा कभी नहीं होती है जिससे यह किसी कार्य को बिना किसी रुकावट या गलती के लगातार कर सकता हा कप्यूटर के इस क्षमता की वजह से मानव कार्य में काफी विकास हुआ है।

Storage capacity: A computer can store any type of data or information in its memory. The computer has magnetic media storage which allows to keep a large amount of data or information safe, such as hard disk, floppy disk, optical disk, etc., with the help of which you can move any data from one place to another.

भंडारण क्षमता : कंप्यूटर में किसी भी प्रकार के डाटा या इनफार्मेशन को इसके मेमोरी में स्टोर कर सकते हैं। कंप्यूटर में मैग्नेटिक मीडिया स्टोरेज होते हैं जो अत्यधिक मात्रा में डाटा या सूचनाओं को परमानेंट सुरक्षित रखने की सहूलियत देते हैं जैसे हार्ड डिस्क, फ्लॉपी डिस्क, ऑप्टिकल डिस्क इत्यादि जिनकी मदद से आप कोई डाटा किसी एक स्थान से दुसरे स्थान तक ले जा सकते हैं।

Versatility: Computers are versatile; they perform multiple different tasks at the same time for e.g. Playing music and drafting your document and even you can print a page. It means the capacity to perform completely different type of work. You may use your computer to prepare payroll slips. Next moment you may use it for inventory management or to prepare electric bills.

वर्सेलिटी : कंप्यूटर की एक बहुत अच्छी विशेषता इसकी विविधता है जो एक ही समय में कई कार्य कर सकता है जैसे अपने डॉक्यूमेंट ड्राफ्टिंग के दौरान म्यूजिक सुनना, कोई पेज प्रिंट करना इत्यादि। यह यूजर पर निर्भर करता है की वह कंप्यूटर सिस्टम पर किस तरह का कार्य कर सकता है क्योंकि ये बिलकुल अलग-अलग तरह के कार्य करने में सक्षम है।

Objectives – उद्देश्य

The objective of this chapter to know about what is computer, Types of computer, history of computer, Generation of computer, Applications of computer, Input/output devices, storage devices, hardware and software, languages, basic operations, Multimedia and Entertainment.

इस अध्याय का उद्देश्य का यूटर के विषय में जानकारी प्राप्त करना है जैसे कम्प्यूटर क्या है, कम्प्यूटर के प्रकार, कम्प्यूटर का इतिहास, कम्प्यूटर का जनरेशन, कम्प्यूटर के एप्लीकेशन, इनपुट/आउटपुट डिवाइसेस, स्टोरेज डिवाइस, हार्डवेयर एवं. सॉफ्टवेयर, लैंग्वेजेस, बेसिक ऑपरेशन, मल्टीमीडिया एवं एंटरटेनमेंट इत्यादि।

Computer & Latest IT gadgets

कम्प्यूटर एवं अन्य नवीनतम आईटी गैजेट्स

You have already experienced the impact of computers in our day to day life. Reservation of tickets in Air Lines and Railways, Payment of telephone and electricity bills, Deposits and withdrawals of money from banks, Business data processing, Medical diagnosis, Weather forecasting, etc. are some of the areas where computer has become extremely useful. It can be compared to a magic box, which serves different purpose to different people.

आपने दिन-प्रतिदिन के जीवन में कंप्यूटर के प्रभाव का अनुभव किया होगा। एयर लाइन्स और रेलवे में टिकटों का आरक्षण, टेलीफोन और बिजली के बिलों का भुगतान, जमा हुए बैंकों से पैसा निकालना, बिज़नेस डेटा प्रोसेसिंग, मेडिकल डायग्नोसिस, वेदर फोरकास्टिंग आदि कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहाँ कंप्यूटर बेहद उपयोगी हो गया है। लेकिन जैसा कि आप बाद में देखेंगे कि यह इससे कहीं अधिक है। इसकी तुलना एक जादुई बॉक्स से की जा सकती है, जो अलग-अलग लोगों को उनके अलग-अलग उद्देश्य प्रदान कराता है।

Types of Computer

कम्प्यूटर के प्रकार


Analog Computer: Analog Computers are used mostly in Medical Sciences. This very in computers work on continuous data values, for e.g. If you have to calculate the pressure on something similar then kind of technology having will be useful.

एनालॉग कम्प्यूटर : एनालॉग कम्प्यूटर में डाटा टांसमिशन एक सीधी रेखा में होता है जिसे एनालॉगस ट्रांसमिशन कहते हैं। जैसे-तापमान, पारे, दाब एवं अन्य भौतिक प्रकृति की सूचनायें इत्यादि।

Digital computers: Digital computers are computers that follow digital technology. Microprocessor is used in these which can execute millions of instructions in one second. This binary value works on the basis of 0, 1, 0 false (false) and 1 hot (true) signals are transmitted, these signals discrete. Occur. They are also divided into four categories, which are as follows,

डिजिटल कम्प्यूटर : डिजिटल कम्प्यूटर वो कम्प्यटर होते हैं जो डिजिटल तकनीक का अनुसरण करते हैं। इनमें माइक्रोप्रोसेसर प्रयोग किया जाता है जो एक सेकेण्ड में करोड़ो निर्देशों को क्रियान्वित कर सकता है। यह बाइनरी वेल्यू 0, 1 के आधार पर कार्य करता है, 0 हो फाल्स (गलत) और 1 हो ट (सही) सिग्नल प्रेषित होता है, ये सिग्नल डिस्क्रीट। होते हैं। इन्हें भी चार श्रेणियों में बाँटा गया है जो निम्नलिखित हैं

1 Micro Computer माइक्रो कम्प्यूटर : The processor is very small so that called Micro processor and device is called Micro Computer. Micro Computer is single user device example: Desktop, Laptop, Palmtop, Notebook, PDA etc.

यह सर्वाधिक छोटा कम्प्यूटर होता है जिसमें एएलयू और सीपीयू एक ही चिप में लगे होते हैं।

2 Mini Computer – मिनी कम्प्यूटर : The processor of Mini Computer is small but larger than Micro processor. Mini Computer is multi user device generally used in designing company for commercial use.

ये माइक्रो कम्प्यूटर से अधिक क्षमतावान होते हैं और एक समय में कई प्रयोक्ताओं के उपयोग में आ सकते हैं। ये डाटा को अधिक तेजी से संसाधित कर सकते हैं।

3. Mainframe – मेनफ्रेम : It has larger processor and multiuser device. Number of users is more than Mini Computer. This is multiuser and multitasking device mostly used in Metrology.

ये अति उच्च भण्डारण क्षमता वाले बहुत बड़े आकार के कम्प्यूटर होते हैं। ये डाटा की बड़ी मात्रा को तेजी से संसाधित कर सकते हैं, इनका उपयोग बैंकों, बड़ी कम्पनियों एवं सरकारी विभागों में होता है।

4. Super Computer सुपर कम्प्यूटर : The processor is biggest than other Computer and processing capacity is highest than other devices. It is Multi user fastest calculating device, generally used in nuclear science for calculation purpose. CRAY-I is the first Super Computer. India’s First Super Computer is PARAM-10000.

यह कम्प्यूटर तेज गति एवं अत्यधिक संग्रह क्षमता वाले होते हैं। इनका आकार काफी बड़ा होता है। पहला सपर कम्प्यूटर के-1 वर्ष 1976 में के रिसर्च कम्पनी द्वारा विकसित किया गया था। भारत का पहला सुपर कम्प्यूटर परम-10000 है।

Hybrid Computer – हाईब्रिड कम्प्यूटर : The kind of computer comes with both characteristics (digital and analog) are called hybrid. This is used there where it needs to calculate both the digital and analog data for e.g. In Hospitals. 

इस प्रकार के कम्प्यूटर में एनालॉग एवं डिजिटल कम्प्यूटर दोनों ही विशेषताओं का मिश्रण होता है। हाईब्रिड कम्प्यूटर का सबसे अधिक प्रयोग चिकित्सा के क्षेत्र में किया जाता है। जैसे-ई०सी०जी० मशीन

Gadgets – गैजेट्स

Earlier while using a telephone you need to sit at a single place to talk with the other person but now can travel anywhere with your Smartphone and talk sitting wherever you want. Nowadays droid Apps have come to bring a revolution in the world of Gadget.

पहले एक टेलीफोन का उपयोग करते समय आपको दूसरे व्यक्ति के साथ बात करने के लिए एक ही जगह पर बैठना पड़ता। था, लेकिन अब आप अपने स्मार्टफोन के साथ कहीं भी यात्रा करते समय और जहाँ चाहें बैठकर बात कर सकते है। आजकल के एड्रोइड ऐप गैजेट की दुनिया में एक क्रांति लाने के लिए आए हैं।

Definition: “A gadget is a small tool or device that has a specific useful purpose and function. Gadgets tend to be more unusual or cleverly designed than normal technology.”

गैजेट एक छोटा उपकरण या डिवाइस है जिसका एक विशिष्ट उपयोगी उद्देश्य और कार्य है। गैजेट सामान्य तकनीक की तुलना में अधिक असामान्य या चतुराई से डिजाइन किए जाते हैं।

A gadget makes our life comfortable and also saves our time and money. Just think when you can get everything stuffed in a single item then what is the need to spend separately? If you can get internet, news, email, songs, video, camera, and every feature like that of a computer into a mobile phone then why will you go for purchasing, a notebook, video recorder, music system, news papers separately?

गैजेट्स हमारे जीवन को आरामदायक बनाते हैं और हमारे समय और पैसे की बचत भी करते हैं। जरा सोचिए जब आप एक ही चीज में सब कुछ भर सकते हैं तो अलग से खर्च करने की क्या जरूरत है। यदि आप इंटरनेट, ईमेल, गाने, वीडियो, कैमरा और कंप्यूटर जैसी हर सुविधा मोबाइल फोन में प्राप्त कर सकते हैं तो आप अलग से नोटबुक, वीडियो रिकॉर्डर, म्यूजिक सिस्टम की खरीदारी के लिए क्यों जाएंगे?

Evolution of Computers & its applications

कम्प्यूटर और उसके अनुप्रयोगों का विकास

History of Computer can be considered from arise of human culture as person known the calculation, they used to something for this purpose like, pebbles, stone etc., but as a device Roman’s abacus is first device used in B.C for calculation. In A.D. various mechanical devices were invented for the calculation like Pascaline by Blaise Pascal, Joseph Jacquard invented a power come into view that is programmed using punched cards, and Charles Babbage invented two machines Analytical engine and Difference engine and Hollerith’s Census Machines (Tabulating machine). Atanas off-Berry Computer (ABC) is a fully digital electronic device used for linear equation. Howard Aiken (IBM) had designed Mark I, the first operational general-purpose electro-mechanical Computer. John Mauchley and Presper Eckert make the Electronic Numerical Integrator and Calculator (ENIAC) First general purpose, digital electronic Computer used to compute a ballistic firing. Universal Automatic Computer (UNIVAC I), was the first commercially successful Computer. Two Era arises Mechanical Era (Before 1945) having mechanical devices and the Electronic Era (From 1945) having electronic processing technology. Electronic Era is divided into Four generations.

सबसे पहले कम्प्यूटर का विकास गणना के लिए प्रयोग की जाने वाली डिवासेस के रूप में किया गया। अबैकस को पहला कम्प्यूटर कहा जाता है, बाद में पास्कल, लॉरेंस, जैकब आदि ने कई डिवाइसे बनायी परन्तु किसी भी डिवाइस में मेमोरी न थी तत्पश्चात् सत्रहवीं शताब्दी में चार्ल्स बैवेज ने एनालिटिकल और डिफरेंस मशीन का आविष्कार किया जिसमें मेमोरी डाली गयी। उक्त मशीन के आविष्कार से ही आधुनिक युग की शुरुआत हुई बाद में आज के सभी कम्प्यूटर में मेमोरी सबसे बड़ी विशेषता होती है। इसी के कारण चार्ल्स बैवेज को कम्प्यूटर का पितामह कहा जाता है। ENIAC प्रथम इलेक्ट्रानिक कम्प्यूटर है। यही से इलेक्ट्रानिक कम्प्यूटर्स का युग शुरु हो गया। UNIVAC-I प्रथम कामर्शियल कम्प्यूटर है।

Generation of Computer – कम्प्यूटर के जेनरेशन Computers are divided in these forms of generation. Here the generations have been described time wise as well as technologies used. कंप्यूटर के जनरेशन को समयावधि के साथ-साथ टेक्नोलॉजी के उपयोग अनुसार निम्नलिखित प्रकार से वर्णित किया गया है।

First Generation – प्रथम जनरेशन (1945-1954): In this first generation of computers. it had ho… used Vacuum tube technology which makes a computer possible to do calculations.

इस कम्प्यटर के प्रथम जनरेशन में वैक्यूम ट्यूब टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया था जिसने कंप्यटर को गणनाएं करना संभव किया।

In this generation computers are used for scientific applications and programming was machine level languages like IBM 701, ENIAC etc.,

Second Generation – T T (1955-1964): In this generation segment of computers, it had been used Transistors which made a computer a little concise and faster to do the same.

इस कप्यूटर के द्वितीय जनरेशन में ट्रांजिस्टर टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया था जिसने कंप्यूटर के आकार को थोड़ा छोटा एवं तेज कर दिया था।

In this generation computers are used for scientific applications and commercial applications. ugrahming was done in high-level programming languages like IBM7030, Heneywell 0 C. mra

Third Generation-तृतीय जनरेशन (1965-19741: In the third generation of computers, It had been integrated circuits which made this faster comparatively and reliable as well. In this generation computers are used for scientific. commercial and interactive online applications. Programming was done in high-level programming languages such as ALGOL, BASIC, C, COBOL, Fortran,and Pascal.

इस कप्यूटर कतृतीय जनरेशन में इंटीग्रेटेड सर्किटस (आई०सी०) टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया जिससे ये तुलनात्मक भरासमद तथा तेज समझा गया। इस पीढी में कम्प्यूटर का उपयोग वैज्ञानिक, वाणिज्यिक आर इटराक्टव आनलाईन एप्लीकेशन्स के लिए किया जाता है। प्रोग्रामिंग हाई स्पीड प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे- COBOL, FORTRAN, BASIC आदि में किया गया था।

Fourth Generation – चतुर्थ जनरेशन (1975-Till Date): In this generation of computers, there had been used micro processors inside to work far better comparatively. This is the most reliable among and very short in size to be portable anywhere you want. In this generation computers are used for scientific, commercial, interactive online applications and network applications. Programming was done in high-level programming languages such as IBM PC etc.

कंप्यूटर के चतुर्थ जनरेशन में माइक्रोप्रोसेसर टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया जो प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय तीनों ही जनरेशन से काफी तेज, भरोसेमंद तथा साइज में छोटा पाया गया जिसे आप आसानी से कही भी इधर-उधर उठा एवं रख सकते हैं। इस पीढ़ी में कम्प्यूटर का उपयोग वैज्ञानिक, वाणिज्यिक, इंटरैक्टिव, ऑनलाईन, एप्लीकेशन और नेटवर्क एप्लीकेशन के लिए किया जाता है। प्रोग्रामिंग हाई लेवल प्रोग्रामिंग भाषाओं और आईबीएम पीसी. आदि में की गई थी।

Fifth generation-पंचम जनरेशन: The fifth generation computer used artificial intelligence which proves it paramount in computer technology in which it also uses its own IQ.

पंचम जनरेशन के कंप्यूटर में आर्टिफिशियल (कृत्रिम) इंटेलिजेंस का उपयोग किया गया जो इसे कंप्यूटर टेक्नोलॉजी में सर्वोपरि सिद्ध करता है जिसमें ये अपना खुद के आई०क्यू० का भी इस्तेमाल करता है।

In this generation computers are used for scientific, commercial, interactive online applications multimedia and network applications. Programming was done in high-level programming languages such as C#, Java, Python etc.,

IT gadgets and their applications

आईटी गैजेट्स और उनके अनुप्रयोग

When referring to gadget its an another name for a widget. It refers to computer programs that provide services without needing an independent application to be launched for each one, but instead run in an environment that manages multiple gadgets. Let us see latest IT Gadgets available in market are listed below:

गैजेट का जिक्र करते समय यह एक विजेट का दूसरा नाम है। यह उन कंप्यटरो को संदर्भित करता है जो हर एक के लिए लॉन्च किए जाने के लिए एप्लीकेशन की आवश्यकता के बिना सेवाएं प्रदान करते हैं, लेकिन इसके बजाय एक वातावरण में चलते हैं जो आपके गजट का पूरा अक्षा आपके गैजेट का पूरा प्रबंधन करता है। हम देखते हैं कि बाजार में उपलब्ध नवीनतम आईटी गैजेट्स नीचे सूचीबद्ध हैं:

Smart watch 360 स्मार्ट वॉच 360 : Smart watches radio streamed to Bluetooth headphones. Many of these watch have media, like audio tracks or radio streamed to Bluetooth touch screens, which allow you to access functions more. Smart watches are just like your smart phaccess functions like a calculator, thermometer, compass and your smart phones. Internet access enables a smart watch with whole world of potential capabilities, like message notifications, GPS navigation and calendar synchronization. And of course, a Bluetooth connection to your phone means the watch can help you place calls or send and receive messages.

स्मार्ट घडियां एप और सभी तरह के डिजिटल मीडिया को चला सकती हैं, जैसे ऑडियो ट्रैक या ब्लूटूथ हेडफोन पर रेडियो स्ट्रीमिंग। इनमें से कई घड़ी में टच स्क्रीन होते हैं, जो आपको कैलकुलेटर, थर्मामीटर, कम्पास आदि के कार्यों का उपयोग करने की सुविधा देते हैं। स्मार्ट घड़ियाँ आपके स्मार्ट फोन की तरह हैं। इंटरनेट का उपयोग एक स्मार्ट घड़ी को पूरी क्षमता के साथ विभिन्न रूप में सक्षम बनाता है, जैसे संदेश सूचनाएं भेजना, जी०पी०एस० नेविगेशन और कैलेंडर सिंक्रनाइजेशन आदि। निश्चित रूप से, आपके फोन के लिए एक ब्लूटूथ कनेक्शन का मतलब है कि आपकी घड़ी आपको कॉल करने या संदेश भेजने और प्राप्त करने में मदद कर सकती है।


Some smart watches are made specifically for athletics purposes, letting you track your lap times, distance and route. They may work in tandem with accessories such as a heart rate monitor or cadence sensor. There are specialty smart watches built especially for sailing enthusiasts, helping them track variables such as speed, wind direction and wind speed.

कुछ स्मार्ट घड़ियों विशेष रूप से एथलेटिक्स प्रयोजनों के लिए बनाई गई हैं, जिससे आप अपने लैप समय, दूरी और मार्ग को ट्रैक कर सकते हैं। वे हृदय गति मॉनीटर या ताल सेंसर जैसे सामान के साथ मिलकर काम कर सकते हैं। विशेष रूप से नौकायन के प्रति उत्साही लोगों के लिए निर्मित विशेष स्मार्ट घड़ियां हैं, जो गति, हवा की दिशा और हवा की गति आदि को ट्रैक करने में मदद करती हैं।

2. Google Glass – गूगल ग्लास : Google Glass is a wearable, voice-controlled Android device that resembles a pair of eyeglasses and displays information directly in the user’s field of vision. Google Glass offers an augmented reality experience by using visual, audio and location-based inputs to provide relevant information. For example, upon entering an airport, a user could automatically receive flight status information. Users can also control the device manually through voice commands and a touch pad located on its frame.

Google ग्लास एक पहनने योग्य, ध्वनि-नियंत्रित एंड्रॉइड डिवाइस है जो एक जोडी चश्मा जैसा दिखता है और उपयोगकर्ता के दृष्टि क्षेत्र में सीधे जानकारी प्रदर्शित करता है। Google ग्लास प्रासंगिक जानकारी प्रदान करने के लिए दृश्य, ऑडियो और स्थान-आधारित इनपुट का उपयोग करके संवर्धित वास्तविकता (augmented reality) का अनुभव प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, एक हवाई अड्डे में प्रवेश करने पर, उपयोगकर्ता स्वचालित रूप से उड़ान की स्थिति की जानकारी प्राप्त कर सकता है। उपयोगकर्ता डिवाइस को वॉयस कमांड और इसके फ्रेम पर स्थित टचपैड के माध्यम से भी नियंत्रित कर सकते हैं।


The Google Glass operating system is based on a version of Android, and it can run apps called Glassware that are customized for the device. The glasses have built-in Wi-Fi and Bluetooth connectivity and a camera for taking photographs and videos.

Google ग्लास ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉइड के एक संस्करण पर आधारित है, और यह ग्लासवेयर नामक ऐप चला सकता है जो डिवाइस के लिए कस्टमाइज्ड हैं। चश्मे में अंतर्निहित वाई-फाई और ब्लूटूथ कनेक्टिविटी, फोटोग्राफ और वीडियोलेने के लिए एक कैमरा है।

3. Drone Camera – ड्रोन कैमरा : A drone is “An unmanned aircraft or ship that can navigate autonomously, without human control or beyond the line of sight”. A drone is made from different light composite materials in order to reduce weight. It can be equipped with a variety of additional equipment, including cameras, GPS guided missiles, Global Positioning Systems (GPS), navigation systems, sensors. and so on.

ड्रोन एक मानव रहित स्वायत्त रूप से नेविगेट कर सक वजन कम रहे। यह विभिन्न मिसाइल, ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्ट मानव रहित छोटे विमान या जहाज के समान होता है जो मानव नियंत्रण के बिना या दष्टि की रेखा से परे से नेविगेट कर सकता है। हल्के मिश्रित पदार्थों से एक ड्रोन निर्माण में किया जाता है जिससे कि उसका है। यह विभिन्न प्रकार के अतिरिक्त उपकरणों से लैस हो सकता है, जिसमें कैमरे, जी0पी0एस0 गाइडेड बल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस), नेविगेशन सिस्टम, सेंसर, आदि शामिल हैं।

Drones come in a broad range of shapes, sizes, and with various functions. The vast majority of today’s models can be launched by hand, and they can be controlled by remotes or from special ground cockpits. The commercial models come in small sizes and have simplified construction, so these drones are suitable even for kids because they are very easy to control.

ड्रोन अपने आकार और विभिन्न कार्यों के साथ व्यापक श्रेणी में आते हैं। आज के अधिकांश मॉडलों को हाथ से लॉन्च किया जा सकता है, और उन्हें रिमोट या विशेष ग्राउंड कॉकपिट से नियंत्रित किया जा सकता है। वाणिज्यिक मॉडल छाट आकार में आते हैं और इनका निर्माण सरल होता है, इसलिए ये ड्रोन बच्चों के लिए भी उपयुक्त है क्योंकि इन्हें । नियंत्रित करना बहुत आसान है।

4. Pen with Camera –पेन विथ कैमरा : High technologies allow miniaturizing spy devices, turning almost every item into a potential risk for our safety. Though it may seem strange, spy gadgets are possible to use for protection. There are devices which are able to detect”bugs” and hidden cameras.

उच्च प्रौद्योगिकियां जासूसी उपकरणों को छोटा करने की सुविधा देती हैं, जो हमारी सुरक्षा के लिए लगभग हर वस्तु को संभावित जोखिम को सुरक्षा म.बदल दती हैं। हालांकि यह अजीब लग सकता है, कि सुरक्षा के लिए जासूसी गैजेट का उपयोग करना संभव है। ऐसे उपकरण भी हैं जो “बग” और छिपे हुए कैमरे का पता लगाने में भी सक्षम हैं ।

Basic Applications of Computer – कम्प्यूटर के मूल अनुप्रयोग

Computer is very useful in our day to day working. The basic applications of computer are:

कम्प्यूटर हमारे दैनिक जीवन में बहुत उपयोगी है, कम्प्यूटर के बेसिक एप्लीकेशन निम्नलिखित है
Word Processing वर्ड प्रोसेसिंग Word Processing software help us to do our day to day work smoothly like letter typing, making resume etc., it automatically corrects spelling and grammar mistakes. You can format your document on which you are working according to your requirement as you can select font size, increase/decrease the font size and you can do Bold, Italic and Underline the font size you are using in your document. By using cut, copy and paste features you can do your work quickly.

वर्ड प्रोसेसिंग के द्वारा हम अपने दैनिक कार्यो, जैसे- पत्र टाइपिंग, रिज्यूम तैयार करना इत्यादि को आसानी से कर सकते हैं। कम्प्यूटर स्वतः ही स्पेलिंग एवं ग्रामेटिकल त्रुटियों को स्वतः सुधार देता है। आप अपने डाक्यूमेंट को जिस पर आप कार्य कर रहे हैं आसानी से अपनी आवश्यकता के अनुसार उसकी फॉर्मेटिंग कर सकते हैं।

In banking – बैंकिंग में : Now-a-days Net Banking is become popular. Most of the people do their banking work by using Net Banking. You can transfer money from one account to another account by using Net Banking easily. You will see that daily transactions in Banks are carried out with the help of computers.

बैंक में वर्तमान समय में नेट बैंकिंग बहुत ही पॉपुलर हो गया है. ज्यादातर लोग अपना बैंकिंग कार्य नेट बैंकिंग के माध्यम से ही करते हैं। आप नेट बैंकिंग के माध्यम से धनराशि का ट्रांसफर एक खाते से दूसरे खाते में कर सकते हैं। बैंकों में होने वाले दैनिक कार्य, लेन-देन कम्प्यूटर के ही सहायता से किये जाते हैं।

Internet – SERIE : You can connect your computer to any computer anywhere either in India or abroad. It is a global system to interconnected computer network. It begins in 1970’s and 1980’e You can browse through much more information than you could do in a library. You also have very fast and convenient access to information,

इण्टरनेट के माध्यम से आप अपने कम्प्यूटर को भारत तथा विश्व के किसी अन्य कम्प्यूटर के साथ जोड साल कम्प्यूटर नेटवर्क को आपस में जोड़ने की एक वैश्विक प्रणाली (global system) है। इसका आरम्भ के दशक में हुआ था। इण्टरनेट के माध्यम से आप लाइबरा का अपेक्षा अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं

Hospitals – हॉस्पिटल्स : You will see that the records of patienter. By one click doctors knows about patient history. disease diagnosis etcare stored in computer. By one click doctore

अस्पताल में कम्प्यूटर के माध्यम से ही अपने मरीज के रिकार्डस की जानकारी बीमारी इत्यादि और एक क्लिक करने पर मरीज के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त हो।

Digital video or audio composition – डिजीटल विडियो या ऑडियो कम्पोजिशन : Computer makes easy Audio or video composition and editing any types of audio/video film. You can put special effects and science fiction in action movies which are being created using computers.

कम्प्यूटर के द्वारा हम किसी भी प्रकार के आडियो या वीडियो को कम्पोज एवं एडिट कर सकते हैं। आप ऐसी एक्शन। फिल्मों में विशेष प्रभाव और विज्ञान कथा डाल सकते हैं जो कंप्यूटर का उपयोग करके बनाई जा रही हैं।

Communication – कम्यूनिकेशन : You will aware about video calling chatting, e-mail etc. Computers let people communicate with each other through chatting, video calling, E-mail, Elearning etc.

आप वीडियो कॉलिंग, चैटिंग, ई-मेल आदि से परिचित होंगे। कम्प्यूटर के द्वारा आप वीडियो कॉलिंग, चैटिंग, ई-मेल के माध्यम से एक-दूसरे से बातचीत कर सकते है।

Desktop publishing- डेस्कटॉप पब्लिशिंग : Desktop publishing is the useful package for a common man. Now a day computer extensively used in Desktop publishing for designing of books, greeting card, marriage card, brochures, magazines etc.

डेस्कटाप पब्लिसिंग सभी के लिए उपयोगी पैकेज है। इसके माध्यम से आप डिजाइनिंग से सम्बन्धित कार्य कर सकते हैं। वर्तमान समय में इसके माध्यम से किताबों की डिजाइन, ग्रीटिंग कार्ड, मैरिज कार्ड, ब्रोशर, मैगजीन इत्यादि सम्बन्धित कार्य किये जाते हैं।

Telecommunications – टेलीकम्यूनिकेशन : In telecommunication you will see mobile phones have software embedded in them for maintaining customer details. Now-a-days you can see any location and know how to reach that location. You can reserve your Air/Railway ticket on mobile phone. You can know the PNR status of your Railway Ticket by sending SMS.

टेलीकम्यूनिकेशन के क्षेत्र में आप देखेंगे की मोबाइल फोन के अन्दर साफ्टवेयर मौजूद रहता है, जिसमें कस्टमर का डिटेल इत्यादि मौजूद रहता है। वर्तमान समय में मोबाइल फोन के द्वारा आप किसी भी स्थान का लोकेशन एवं वहाँ तक पहुँचने के मार्ग को देख सकते हैं। आप हवाई/रेल टिकट को मोबाइल फोन के द्वारा सुरक्षित कर सकते हैं। आप एस. एम.एस. भेजकर रेलवे टिकट के पी.एन.आर. की स्थिति जान सकते हैं।

Apart from above, computer are also use in Defense, E-learning, Medical Science, Playing game, Certificates, ATM Machine, Robots, News, Weather Analysis, Online booking etc.

उपर्युक्त के अलावा, कम्प्यूटर का उपयोग रक्षा, ई-लर्निग, चिकित्सकीय विज्ञान, खेल, प्रमाण-पत्र, ए.टी.एम. मशीन, रोबोट, समाचार, मौसम विश्लेषण इत्यादि में भी किया जा रहा है।

Basics of Hardware and Software

हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की मूल बातें

Computer system is the combination of hardware and software. Hardware are components of the Computer System; physical, Tangible pieces that we can see and touch as mother board, SMPS, VDU, Sound, RAM etc. Software is set of programs (which are step by step instructions) telling the Computer how to process data.

कंप्यूटर प्रणाली हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का कॉम्बिनेशन है। हार्डवेयर कंप्यूटर सिस्टम के घटक हैं भौतिक, टैन्जिबिल टुकड़े जिन्हें हम देख और छ सकते हैं जैसे मदर बोर्ड, एसएमपीएस, वीडीयू, साउंड, रैम आदि। सॉफ्टवेयर कई सारे प्रोग्रामों का सेट । है (जो स्टेप बाय स्टेप निर्देश है) जो कम्प्यूटर को यह बताता है कि कैसे डाटा को प्रोसेस किया जाए।

Hardware

हार्डवेयर

Hardware is the physical parts of a computer and the software that provides instructions for the hardware to accomplish tasks. The boundary between hardware and software is connected through firmware software that is built-in to the hardware.

हार्डवेयर एक कंप्यूटर का भौतिक भाग है और सॉफ्टवेयर जो हार्डवेयर के कार्यों को पूरा करने के लिए निर्देश प्रदान करता। है। हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच की सीमा को फर्मवेयर कहते है जो सॉफ्टवेयर के माध्यम से जुड़ी हुई है और हार्डवयर में अंतर्निहित है।

In Computer system, following hardware components are available to perform various task

कंप्यूटर प्रणाली में, विभिन्न कार्य करने के लिए निम्नलिखित हार्डवेयर घटक उपलब्ध हैं।

Motherboard – मदरबोर्ड : It is the biggest electronic circuit board inside the computer system which holds the CPU, main memory and other parts, and has slots for expansion cards.

यह कम्प्यूटर सिस्टम के अन्दर सबसे बड़ा इलेक्ट्रानिक सर्किट बोर्ड है जो सीपीयू, मेन मेमोरी, और अन्य पार्टस को रखता है और इसमें एक्सपेन्सन कार्ड के लिए स्लाट्स होता है।

SMPS (Switch Mode power supply) – एसएमपीएस (स्विच मोड पॉवर सप्लाई): It converts AC (Alternative current) to DC (Direct Current)

यह अल्टनेटिव करेन्ट को डायरेक्ट करेन्ट में बदलता और पूरे कंप्यूटर को करेन्ट प्रदान करता है।

Storage controllers – Feket acteref : Storage controllers of IDE, SCSI or other type, that control hard disk, floppy disk, CD-ROM and other drives; the controllers sit directly on the motherboard (on-board) or on expansion cards.

आई0 डी0 ई0, एस० सी० एस० आई० या अन्य प्रकार के स्टोरेज कन्ट्रोलर, जो हार्ड डिस्क, फ्लॉपी डिस्क, सीडी-रोम आर अन्य ड्राइव को कन्ट्रोल करते हैं। कन्ट्रोलर सीधे मदरबोर्ड (ऑन-बोड) या एक्सपेन्सन कार्ड पर स्थित होते है।

Graphics controller – ग्राफिक्स कंट्रोलर : It produces the output for the monitor.

ग्राफिक्स कन्ट्रोलर जो मॉनीटर के लिए आउटपुट प्रोड्युस करता है।

The hard disk, floppy disk and other drives for mass storage.

मास स्टोरेज के लिए हार्ड डिस्क, फ्लापी डिस्क और अन्य डिवाइस का उपयोग होता है।

Interface controllers – इंटरफेस कंट्रोलर : Interface controllers (parallel, serial, USB, Firewire) to connect the computer to external peripheral devices such as printers or scanners. इन्टरफेस कन्ट्रोलर (पैरलल, सीरियल, युएसबी. फायरवायर) एक्सटर्नल पेरीफेरल डिवाइस से कम्प्यूटर को कनेक्ट करने के लिए होता है जैसे प्रिन्टर्स, या स्कैनर।

Central Processing Unit

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट

The CPU stand for central processing unit, is the heart and brain of a computer. CPU term is also known as a central processor, microprocessor or chip. The central processing unit (CPU) is the unit which performs most of the processing inside a computer. To control instructions and data flow to and from other parts of the computer, the CPU relies heavily on a chipset, which is a group of microchips located on the motherboard. All functions and processes that are done on a computer are performed directly or indirectly by the processor.

सीपीयू का अर्थ है सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट जिसका मतलब है गणना (कैलकुलेशन), तुलना के डिसीजन से है। प्रोसेसिंग डिवाइस सेन्ट्रल प्रोसेसिंग युनिट इकाई (सीपीयू) हैं। जिसे माइक्रोप्रोसेसर भी कहा जाता है जो कंप्यूटर में एक स्मॉल चिप है जो इनपुट प्राप्त करता है और आउटपुट प्रदान करता है। यह सिलिकॉन से बना होता है और लाखों ट्रांजिस्टर को शामिल करता है। उदाहरण के लिए, पेंटियम, डुअल कोर, कोर 2 डुओ, कोर आई 3, आई 5, आई 7 आदि माइक्रोप्रोसेसर हैं। इसमें एलयु, सीयु और एम यु (मेमोरी यूनिट) शामिल होते हैं।

The two typical components of a CPU include the following:

सी0पी0यू0 के तीन विशिष्ट घटक होते हैं, जो निम्नलिखित हैं:

The first one is arithmetic logic unit (ALU), which performs arithmetic and logical operations.The second one is control unit (CU), which extracts instructions from memory, decodes and executes them, calling on the ALU when necessary.

पहला घटक अस्थिमेटिक लॉजिक यूनिट (ALU) है,जो अंकगणित और तार्किक संचालन का कार्य करता है। दूसरा घटक कण्टोल यनिट (सीय) है जो आवश्यक होने पर ALU द्वारा आवश्यक मेमोरी से आने वाले निर्देशों को डिकोड करता है और उन्हें एक्सीक्यूट करता है। तीसरा मेमोरी यूनिट जो डेटा को टेम्पोरेरी मेमोरी से जोड़ता है।


A CPU of all computers, whether micro, mini or mainframe must have three parts.
सभी तरह के कम्प्यूटरों, चाहे माइक्रो, मिनी या मेनफ्रेम तीन भागों का होना चाहिए

1 ALU (Arithmetic Logic Unit): It is the part of computer processor (CPU) can be used to perform arithmetic and logic operations. An arithmetic-logic unit (ALU) is further divided into two parts. (AU) arithmetic unit and a (LU) logic unit. For example it performs simple arithmetic operation such as +,-./ and logical operation such as >,< =<, <= etc.,

ALU (अंकगणित तर्क इकाई) : यह कंप्यूटर प्रोसेसर (सीपीयू) का हिस्सा है जिसका उपयोग अंकगणित और लॉजिकल ऑपरेशन हेतु किया जाता है। एक अंकगणित-तर्क इकाई (ALU) को आगे दो भागों में विभाजित किया जाता है, (AU) अंकगणितीय इकाई और एक (LU) तर्क इकाई। उदाहरण के लिए,साधारण अंकगणितीय ऑपरेशन जैसे +,..’,/ को AU करता है और तार्किक संचालन जैसे >, < < <= आदि को LU करता है?

2. CU (Control Unit) CU (कंट्रोल यूनिट): The control unit works like the boss and coordinates all of the processor’s activities. Processor used in a computer is partially made out of Silica. On other words silicon chip used for data processing are called Micro Processor. Using programming instructions, it controls the flow of information through the processor by controlling what happens inside the processor. It manages the various components of the computer. It reads instructions from memory and interpretation and changes in a series of signals to activate other parts of the computer. It controls and co-ordinate the input output memory and all other units.

कंट्रोल यूनिट मुख्य बॉस की तरह कार्य करता है, और प्रोसेसर की सभी गतिविधियों को सम्पादित करता है। कंप्यूटर में प्रयुक्त प्रोसेसर आंशिक रूप से सिलिका से बना होता है। दूसरे शब्दों में डेटा प्रोसेसिंग के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सिलिकॉन चिप को माइक्रोप्रोसेसर कहा जाता है। प्रोग्रामिंग निर्देशों का उपयोग करते हुए, यह प्रोसेसर के माध्यम से सूचना के प्रवाह को नियंत्रित करता है जो प्रोसेसर के अंदर होता है। यह कंप्यूटर के विभिन्न घटकों का प्रबंधन करता है। यह स्मृति और व्याख्या से निर्देश पढ़ता है और कंप्यूटर के अन्य भागों को सक्रिय करने के लिए संकेतों की एक श्रृंखला में परिवर्तन करता है। यह इनपुट आउटपुट मेमोरी और अन्य सभी इकाइयों को नियंत्रित और समन्वयित करता है।

3. MU (Memory Unit) मेमोरी यूनिट : Memory is used to store data and instructions before and after processing. There are 2 types of memory unit called Primary memory or internal memory and Secondary memory.

मेमोरी का उपयोग प्रोसेसिंग से पहले और बाद में डेटा और निर्देशों को संग्रहीत करने के लिए किया जाता है। दो प्रकार की मेमोरी यूनिट होती हैं जिन्हें प्राथमिक मेमोरी या आंतरिक मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी कहा जाता है।

Output Unit: An Output device accepts the output from the CPU. There are many devices like Monitor, Printer etc. There are mainly three functions of output a follows.

एक आउटपुट डिवाइस CPU से आउटपुट को स्वीकार करता है। कई डिवाइस जैसे मॉनिटर, प्रिंटर आदि हैं। आउटपुट के मुख्यतः तीन कार्य हैं।

1: It accepts the results from CPU in the form of machine language.

यह मशीन भाषा के रूप में सी०पी०यू० से प्राप्त परिणामों को स्वीकार करता है।

2: It converts results from machine language to human readable language.

इसे यह मशीन भाषा से पठनीय भाषा के परिणामों में परिवर्तित करता है।

3: It supplies the converted results to output device(s).

यह आउटपुट डिवाइस को परिवर्तित परिणामों की आपूर्ति करता है।

Input Device इनपुट डिवाइस: An Input device accept the input from the user. There are many kinds of input devices like Keyboard, Mouse etc. There are mainly 3 functions of input device are as follows:

एक इनपुट डिवाइस उपयोगकर्ता से इनपुट स्वीकार करता है। कीबोर्ड माउस आदि जैसे कई प्रकार के इनपुट डिवाइस है। इनपुट डिवाइस के मुख्य रूप से तीन कार्य इस प्रकार हैं:

1: An input device accepts data from the user.

एक इनपुट डिवाइस उपयोगकर्ता से डेटा स्वीकार करता है।

2: Converts these instructions into computer understandable language.

इन निर्देशों को कंप्यूटर की समझ में आने वाली भाषा में परिवर्तित करता है।

3: It supplies the converted instructions to the computer system for further processing .

यह आगे की प्रक्रिया के लिए कंप्यूटर सिस्टम में परिवर्तित निर्देशों की आपूर्ति करता है।

Axact

Currentjosh

We welcome you all on our education platform currentjosh.in. Here we share study materials all free and contents related to education to help each student personally. Our team members efforts a lot to provide quality and useful selected information for particular subjects and particular topics. Stay in touch with us and with our members who works for this welfare education system and get useful and best study material to get selected.

Post A Comment:

0 comments: