CTET Child Development & pedagogy top 500 questions ( Part -5 )
(बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) :

In this quiz you will know about,learning theories for ctet,let's learn ctet pdf,evaluation of learning for ctet,Definition of forgetting,Causes of forgetting and definition.

इस CTET Notes में आप सभी को अधिगम संबंधी विस्मृति का अर्थ , विस्मृति की परिभाषाएं (Definition of forgetting),विस्मृति के प्रकार, सक्रिय विस्मृति, निष्क्रिय विस्मृति, विस्मृति के कारण (Causes of forgetting),विस्मृति के सिद्धांत, शिक्षा में विस्मृति का महत्व, विस्मृति कम करने के उपाय,
smriti aur vismriti mein antar,short term memory in hindi,case smriti kya hai का pdf, आदि के बारे महत्वपूर्ण जानकारी मिल जाएगी |बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र से संबंधित उन प्रश्नों के बारे में है जिनको पिछ्ले Teaching के Exam जैसे CTET , UPTET पूछे गए हैं |
इसमें Child Development and Pedagogy से संबंधित प्रश्न हैं,Child Development and Pedagogy के पिछ्ले Year के Question आप सभी को मिल जाएगा |

CTET Examination Admit Card 2020: उम्मीदवार ऐसे  डाउनलोड कर सकेंगे 


Child Development & pedagogy(बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) top 500 questions Part 1

Child Development & pedagogy(बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) top 500 questions Part 2

Child Development & pedagogy(बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) top 500 questions Part 3

Child Development & pedagogy(बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) top 500 questions Part 4

Child Development & pedagogy(बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) top 500 questions Part 5


Child Development & pedagogy(बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) top 500 questions Part 6


Child Development & pedagogy(बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) top 500 questions Part 7

121. स्‍टाउट के अनुसार, उत्‍तम स्‍मृति के लिए आवश्‍यक है – 
उत्‍तम धारण शक्ति

122. सामान्‍य रूप से अच्‍छी स्‍मृति पायी जाती है – 
प्रतिभाशाली बालकों में

123. निम्‍नलिखित में कौन-सा तथ्‍य स्‍मृति से सम्‍बन्धित है – 
इन्द्रिय अनुभव, सक्रिय स्‍मृति, तर्क

124. विस्‍मृति एक अवधारणा है – 
सकारात्‍मक व नकारात्‍मक

125. अधिक विस्‍मृति की स्थिति में बालक का व्‍यवहार हो जाता है – 
असामान्‍य

126. विस्‍मृति का आशय है – 
अचेतन मन के अनुभव, किसी तथ्‍य को भूल जाना।

127. मन के अनुसार, विस्‍मृति है – 
पुन: स्‍मरण की असफलता

128. विस्‍मृति के प्रमुख प्रकार है – 
दो

129. निष्क्रिय विस्‍मृति का आशय है – 
प्रयास न करने पर तथ्‍यों को भूल जाना

130. विस्‍मृति के कारणों को विभक्‍त किया जा सकता है – 
सामान्‍य कारणों के रूप में, सैद्धिान्तिक कारणों के रूप में

131. विस्‍मृति के सामान्‍य कारणों में सम्मिलित किया जा सकता है – 
रुचि का अभाव

132. स्‍टाउट के अनुसार, उच्‍च स्‍मृति की विशेषता है – 
उपयोगी तथ्‍यों की स्‍मृति, अनुपयोगी तथ्‍यों की विस्‍मृति, उच्‍च धारण शक्ति

133. जब एक अनुभव दूसरे अनुभव से सम्‍बन्धित होता है। यह स्‍मृति के किस नियम से जाना जाता है – 
साहचर्य का नियम

134. आदत का नियम सम्‍बन्धित है – 
अभ्‍यास से

135. विस्‍मृति कम करने का उपाय है – 
अभ्‍यास का

CTET EVS NOTES के लिए यहाँ क्लिक करें - 

136. विस्‍मृति की स्थिति को कम करता है – 
सस्‍वर वाचन

137. विस्‍मृति को कम करने के लिए आवश्‍यक है – 
अवधान, स्‍मरण के नियम, पाठ की पुनरावृत्ति

138. विस्‍मृति का सम्‍बन्‍ध होता है – 
अचेतन मन से

139. जब छात्र एक पाठ को याद करने के बाद दूसरा पाठ याद करता है तो उस पाठ का विस्‍मृति की सम्‍भावना अधिक हो जाती है। यह विस्‍मृति के किस सिद्धान्‍त से सम्‍बन्‍धी है – 
बाधा सिद्धान्‍त से

140. विस्‍मृति को अभ्‍यास के अभाव का कारण किस विद्वान ने माना है – 
थार्नडाइक व एबिंगहार ने

141. एक बालक अपने पिता की मृत्‍यु को याद करना नहीं चाहता है तो विस्‍मृति के किस सिद्धान्‍त का अनुकरण करता है – 
दमन सिद्धान्‍त

142. विस्‍मृति का प्रमुख कारण है – 
संवेगात्‍मक अस्थिरता, मानसिक आघात, मन्‍द बुद्धि होना

143. समय के प्रभाव को विस्‍मृति का कारण किस विद्वान ने स्‍वीकार किया है – 
हैरिस ने

144. विस्‍मृति के सैद्धान्तिक कारणों में सम्मिलित किया जा सकता है – 
दमन

145. निरर्थक विषयों की तुलना में सार्थक विषयों की विस्‍मृति धीरे-धीरे होती है। यह कथन है – 
मर्सेल का

146. ड्रेवर के अनुसार, विस्‍मृति का अर्थ है – 
पूर्व अनुभव का स्‍मरण करने पर असफलता

147. फ्रायड के अनुसार, विस्‍मृति का आशय है – 
भूल जाना, दु:खद अनुभवों को स्‍मृति से अलग कर देना।

148. उच्‍च धारण शक्ति से आशय है – 
अचेतन मन में तथ्‍यों का संग्रहण

149. अधिकांशत: व्‍यक्तियों की धारण शक्ति में परिवर्तन नहीं किया जा सकता है। यह कथन है – 
रायबर्न को

150. अच्‍छी स्‍मृति के लिए आवश्‍यक है – 

उच्‍च अधिगम, उच्‍च धारण शक्ति, पुन:स्‍मरण
Axact

Currentjosh

We welcome you all on our education platform currentjosh.in. Here we share study materials all free and contents related to education to help each student personally. Our team members efforts a lot to provide quality and useful selected information for particular subjects and particular topics. Stay in touch with us and with our members who works for this welfare education system and get useful and best study material to get selected.

Post A Comment:

1 comments:

  1. The team even quickly skipped an omission from the scope to end the finished product. Knowledgeable and skilled, UX best service design company provides a valuable user experience design through high-caliber services and attentive customer service.

    ReplyDelete