बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र

Child Development & Pedagogy

SET-4

(Class 1-5)
Quiz $\newcommand{\ones}{\mathbf 1}$

बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र (Child Development & Pedagogy)

1. निम्न में से कौन-सा अधिगम के पार का कारण नहीं है?
  1. प्रेरणा की सीमा
    Incorrect.
  2. विद्यालय का असहयोग
    Correct! सीखने की मात्रा तथा समय (अथवा प्रयास) के परस्पर सम्बन्ध को चित्रांकित करने पर जो वक्र रेखा प्राप्त होती है उस अधिगम वक्र रेखा कहा जाता है। अधिगम वक्र में कभी-कभी दखा जाता है कि अधिगम वक्र का कुछ भाग अत्यन्त कम उन्नति का प्रदर्शित करता है। नगण्य उन्नति को प्रदर्शित करने वाले इस प्रकार के भाग अधिगम के पठार कहलाते हैं । अधिगम पठार बनने के कई कारण हो सकते हैं। जैसे-अधिगमकर्ता की आवश्यकता,) ध्यान, रूचि, उत्साह, वातावरणीय व्यवधान, थकान, मनोशारीरिक सीमा, ज्ञान की सीमा आदि।
  3. शारीरिक सीमा
    Incorrect.
  4. ज्ञान की सीमा
    Incorrect.

2. "अधिगम, अनुभव और प्रशिक्षण के परिणामस्वरूप व्यवहार में परिवर्तन है।" यह कथन किनके द्वारा दिया गया?
  1. गेट्स व अन्य
    Correct! “अधिगम, अनुभव और प्रशिक्षण के परिणामस्वरूप व्यवहार में परिवर्तन है।- गेट्स व अन्य के अनुसार
  2. मॉर्गन और गिलिलैण्ड
    Incorrect.
  3. स्किनर
    Incorrect.
  4. क्रॉनबैक
    Incorrect.

3. 'स्टेनफोर्ड-बिने परीक्षण' मापन करता है
  1. व्यक्तित्व का
    Incorrect.
  2. पढ़ने की दक्षता का
    Incorrect.
  3. बुद्धि का
    Correct! 'स्टैनफार्ड बिने-परीक्षण' बुद्धि का मापन करता है। सन् 905 में बिने ने अपने सहयोगी साइमन के साथ मिलकर आधुनिक प्रकार का सबसे पहला सफल बुद्धि परीक्षण तैयार किया था।
  4. उपर्युक्त में से कोई नहीं
    Incorrect.

4. अन्तर्मुखी व्यक्तित्व एवं बहिर्मुखी व्यक्तित्व का वर्गीकरण किसने किया है?
  1. फ्रायड
    Incorrect.
  2. युंग
    Correct! युंग के अनुसार सामाजिक अंतःक्रिया की दृष्टि से व्यक्तियों के व्यक्तित्व को तीन भागो में बाँटा जा सकता है। 1) अंतर्मुखी (2) बहुमुखी (3) उभय मुखी।
  3. मन
    Incorrect.
  4. आलपोर्ट
    Incorrect.

5. बच्चों के सामाजिक विकास को प्रभावित करने वाले कारक हैं
  1. आर्थिक तत्व
    Incorrect.
  2. सामाजिक परिवेशजन्य तत्व
    Correct! सामाजिक विकास से तात्पर्य विकास की उस प्रक्रिया से है जिसके द्वारा व्यक्ति अपने सामाजिक वातावरण के साथ अनुकूलन करता है, सामाजिक परिस्थितियों के अनुरूप अपनी आवश्यकताओं व रूचियों पर नियंत्रण करता है, दूसरों के प्रति अपने उत्तरदायित्व का अनुभव करता है तथा अन्य व्यक्तियों के साथ प्रभावपूर्ण ढंग से सामाजिक सम्बन्ध स्थापित करता है। सामाजिक विकास के फलस्वरूप व्यक्ति समाज का एक मान्य, सहयोगी, उपयोगी तथा कुशल नागरिक बन जाता है। इस प्रकार सामाजिक परिवशजन्य तत्व बच्चो के सामाजिक विकास को प्रभावित करता है।
  3. शारीरिक तत्व
    Incorrect.
  4. वंशानुगत तत्व
    Incorrect.

6. निम्न में कौन-सा शारीरिक विकास का एक प्रमुख नियम है?
  1. मानसिक विकास से मित्रता का नियम
    Incorrect.
  2. अनियमित विकास का नियम
    Correct! अन्य प्राणियों की अपेक्षा मनुष्य के शारीरिक विकास की गति धीमी तथा अनियमित होती है। शैशवावस्था में शारीरिक वृद्धि एवं परिवर्तन तीव्रतम गति से होता है। बाल्यावस्था में यह गति धीमी हो जाती है पुनः किशोरावस्था में विकास तीव्रतम गति से होती है। शैशवावस्था एवं बाल्यावस्था में शारीरिक विकास सिर से पैर की ओर' एवं 'निकट से दूर की ओर', के नियमानुसार होता है।
  3. द्रुतगामी विकास का नियम
    Incorrect.
  4. कल्पना और संवेगात्मक विकास से सम्बन्ध का नियम
    Incorrect.

7. निम्न में से कौन सा विकास का सिद्धान्त नहीं है?
  1. अनुकूलित प्रत्यावर्तन का सिद्धान्त मकान
    Correct! निरन्तर विकास का सिद्धान्त, परस्पर सम्बन्ध का सिद्धान्त, समान प्रतिमान का सिद्धान्त, वंशानुक्रम तथा वातावरण की अंतःक्रिया का सिद्धान्त, परिमार्जिता का सिद्धान्त, एकीकरण का सिद्धान्त, मस्तकाधोमुखी का सिद्धान्त, केन्द्र से निकट-दूर का सिद्धान्त, सामान्य से विशिष्ट प्रक्रिया का सिद्धान्त, व्यक्तिगतता का सिद्धांत, विकास क्रम का सिद्धान्त आदि विकास सिद्धान्त हैं। जबकि अनुकूलित प्रत्यावर्तन का सिद्धान्त अधिगम से सम्बन्धित है।
  2. निरन्तर विकास का सिद्धान्त
    Incorrect.
  3. परस्पर सम्बन्ध का सिद्धान्त
    Incorrect.
  4. समान प्रतिमान का सिद्धान्त वाररत
    Incorrect.

8. "विकास के परिणामस्वरूप नवीन विशेषताएँ और नवीन योग्यताएँ प्रकट होती हैं।" यह कथन किसने दिया है?
  1. गरल
    Incorrect.
  2. हरलॉक
    Correct! हरलॉक ने बालक के विकास को परिभाषित करते हुए लिखा है "विकास की प्रक्रिया बालक की गर्भावस्था से उसकी मृत्यु तक एक क्रम में चलती है तथा प्रत्येक अवस्था का प्रभाव दूसरी अवस्था पर पड़ता है।" इनके अनुसार- “विकास के परिणामस्वरूप व्यक्ति में नई-नई विशेषताएँ और नई-नई योग्यताएँ प्रकट होती है।"
  3. मेरेडिथ
    Incorrect.
  4. डगलस और होलैण्ड
    Incorrect.

9. मूल प्रवृत्तियों को चौदह प्रकार से किसने वर्गीकृत किया है?
  1. ड्रेवर
    Incorrect.
  2. मैक्डूगल
    Correct! मैक्डूगल के अनुसार- "मूलप्रवृत्ति, परम्परागत या जन्मजात मनोशारीरिक प्रवृत्ति है, जो प्राणी को किसी विशेष वस्तु। को देखने उसके प्रति ध्यान देने, उसे देखकर एक विशेष प्रकार की संवेगात्मक उत्तेजना का अनुभव करने और उससे सम्बन्धित एक विशेष ढंग से कार्य करने या ऐसा करने की प्रबल इच्छा का अनुभव करने के लिए बाध्य करती है।" मैक्डूगल का प्रवृत्तियों का वर्गीकरण मौलिक और सर्वमान्य है। इन्होंने निश्चित शारीरिक क्रियाओ के आधार पर 14 प्रवृत्तियों की सूची दी है और प्रत्येक मूलप्रवृत्ति से सम्बद्ध एक सवाल बताया है।
  3. थार्नडाइक
    Incorrect.
  4. वुडवर्थ
    Incorrect.

10. "किसी दूसरी वस्तु की अपेक्षा एक वस्तु पर चेतना का केन्द्रीकरण अवधान है।" यह कथन है
  1. डम्विल का
    Correct! "किसी दूसरी वस्तु की अपेक्षा एक वस्तु पर चेतना का केन्द्रीकरण अवधान है।"- डम्बिल के अनुसार
  2. रॉस का
    Incorrect.
  3. मन का
    Incorrect.
  4. मैक्डूगल का
    Incorrect.

11. निम्न में से कौन-सा सीखने के मुख्य नियमों में शामिल नहीं है?
  1. तत्परता का नियम
    Incorrect.
  2. अभ्यास का नियम
    Incorrect.
  3. बहु-अनुक्रिया का नियम
    Correct! थार्नडाइक ने अपने प्रयोगों के आधार पर सीखने के कतिपय नियमों का प्रतिपादन किया। इन नियमों को मुख्यतः दो वर्गों में विभाजित किया जाता है- (1) मुख्य नियम (2) गौण नियम (1.) मुख्य नियम के अंतर्गत निम्नलिखित नियम है (i) तत्परता का नियम (ii) अभ्यास का नियम (iii) प्रभाव का नियम (2) गौण नियम के अंतर्गत निम्नलिखित नियम है (i) बहुअनुक्रिया का नियम समानता (ii) मानसिक स्थिति का नियम (iii) आंशिक क्रिया का नियम (iv) सादृश्य अनुक्रिया का नियम
  4. प्रभाव का नियम
    Incorrect.

12. 2 वर्ष से 16 वर्ष के बच्चों के लिए हिन्दी में डॉ. एस. जलोटा ने कौन-सा परीक्षण प्रतिपादित किया है?
  1. अशाब्दिक बुद्धि परीक्षण
    Incorrect.
  2. साधारण मानसिक योग्यता परीक्षण
    Correct! पंजाब विश्वविद्यालय के प्रो. एस. जलोटा ने एक सामूहिक बुद्धि परीक्षण का निर्माण सन् 1963 में किया जिसका नाम साधारण मानसिक योग्यता परीक्षण' रखा। यह परीक्षण हिन्दी, उर्दू एवं आंग्लभाषा में तथा 12 वर्ष से 16 वर्ष के बच्चो के लिए था।
  3. आर्मी अल्फा परीक्षण
    Incorrect.
  4. चित्रांकन परीक्षण
    Incorrect.

13. बुद्धि के द्विकारक सिद्धान्त का प्रतिपादन किसने किया?
  1. थार्नडाइक
    Incorrect.
  2. स्पीयरमैन
    Correct! बुद्धि के द्विकारक सिद्धांत का प्रतिपादन अंग्रेज मनोवैज्ञानिक स्पीयरमैन ने 1904 में किया था। इनके अनुसार बुद्धि दो कारको से मिलकर बनी है- सामान्य योग्यता कारक (G-Factor) तथा विशिष्ट योग्यता कारक (S- Factor)
  3. वर्नन
    Incorrect.
  4. स्टर्न
    Incorrect.

14. निम्न में से कौन-सा युग्म सही नहीं है?
  1. सीखने का उद्दीपक-अनुक्रिया सिद्धान्त-थॉर्नडाइक
    Incorrect.
  2. सीखने का क्रियाप्रसूत अनुबन्धन सिद्धान्त-बी. एफ स्किनर
    Incorrect.
  3. सीखने का क्लासिकल सिद्धांत-पावलव
    Incorrect.
  4. सीखने का समय सिद्धान्त-हल
    Correct! सीखने के समग्र सिद्धान्त का अंतर्दृष्टि या सदर सिद्धान्त भी कहते हैं। इस सिद्धान्त का प्रतिपादन गेस्टाल्टवादी मनोवैज्ञानिको- वोल्फगैंग कोहलर तथा कुर्ट कोफ्का द्वारा किया गया जबकि हल ने सीखने के प्रबलन सिद्धान्त का प्रतिपादन किया है।

15. इनमें से किनको नाम 'सुजननशास्त्र के पिता' से जुड़ा हुआ है?
  1. क्रो एवं क्रो
    Incorrect.
  2. गाल्टन
    Correct! सुजनन शास्त्र या जीवसांख्यिकी का शाब्दिक अर्थ होता है। जीवधारियों से सम्बन्धित संख्या का विज्ञान। गणित और आकडे की विधि के प्रयोग द्वारा जीवित वस्तुओं के जैव गुणों का वर्णन और वर्गीकरण जीवसांख्यिकी कहलाता है। सर फ्रांसिस गाल्टन जीवसांख्यिकी के पिता माने जाते हैं। इन्होंने दो नियमों का प्रतिपादन किया- एक पैतृक वंशानुक्रमण का नियम और दूसरा वंश अवनति का नियम।
  3. रॉस
    Incorrect.
  4. वुडवर्थ
    Incorrect.

16. ग्रन्थियों के आधार पर व्यक्तित्व के विभिन्न प्रकारों की चर्चा किसने की है?
  1. क्रेशमर
    Incorrect.
  2. युग
    Incorrect.
  3. कैनन
    Correct! व्यक्तित्व को विभिन्न मनोवैज्ञानिकों ने भिन्न-भिन्न प्रकार से वर्गीकरण किया है। क्रेशमर ने 'शरीर रचना' की दृष्टि से व्यक्तित्व को तीन भागो- लम्बकाय, सुडौलकाय, गोलकाय में, जंग ने (सामाजिक दृष्टिकोण के आधार पर व्यक्तित्व को तीन भागों अंतर्मुखी, बहिर्मुखी और उभयमुखी... में, त्रिचुर ने 'मूल्यों' के आधार पर व्यक्तित्व का छ: भागों सैद्धान्तिक आर्थिक, धार्मिक, राजनीतिक, सामाजिक और कलात्मक में वर्गीकृत किया है।
  4. स्प्रैन्जर
    Incorrect.

17. "सृजनात्मकता मौलिक परिणामों को अभिव्यक्त करने की मानसिक प्रक्रिया है।" यह कथन है
  1. कोल एवं ब्रूस का -
    Incorrect.
  2. ड्रेवहल का
    Incorrect.
  3. डीहान का
    Incorrect.
  4. क्रो एवं क्रो का
    Correct! "सृजनात्मकता मौलिक परिणामों को अभिव्यक्त करने की मानसिक प्रक्रिया है। यह कथन क्रो एवं क्रो का है।

18. "विद्रोह की भावना' की प्रवृत्ति निम्न में से किस अवस्था से सम्बन्धित है?
  1. बाल्यावस्था
    Incorrect.
  2. शैशवावस्था
    Incorrect.
  3. पूर्व किशोरावस्था
    Correct! पूर्व किशोरावस्था (12-14 वर्ष) के किशोर में शारीरिक और मानसिक स्वतंत्रता की प्रबल भावना होती है। अतः यदि उस पर किसी प्रकार का प्रतिबन्ध लगाया जाता है तो उसमें विद्रोह की ज्वाला फूट पड़ती है। कोलेसनिक का कथन है-"किशोर, प्रौढ़ा का अपने मार्ग में बाधा समझता है, जो उसे अपनी स्वतंत्रता का लक्ष्य प्राप्त करने से रोकते हैं।"
  4. मध्य किशोरावस्था
    Incorrect.

19. सीखने की वह अवधि, जब सीखने की प्रक्रिया में कोई उन्नति नहीं होती, कहलाती है
  1. सीखने का वक्र
    Incorrect.
  2. सीखने का पठार
    Correct! सीखने की वह अवधि, जब सीखने की प्रक्रिया में कोई उन्नति नहीं होती, सीखने का पठार कहलाता है। इसकी विस्तृत व्याख्या प्रश्न संख्या (1) में की गयी है।
  3. स्मृति
    Incorrect.
  4. अवधान
    Incorrect.

20. बुद्धि लब्धि निकालने का सूत्र है।
  1. मानसिक आयु x वास्तविक आयु
    Incorrect.
  2. वास्तविक आयु / मानसिक आयु
    Incorrect.
  3. (मानसिक आयु / वास्तविक आयु )x 100
    Correct! स्टर्न तथा कुहलमान ने सन् 1912 में बुद्धि लब्धि, जिसे संक्षेप में आई. क्यू. (IQ.) कहते है का प्रतिपादन किया था।
  4. वास्तविक आयु + मानसिक आयु
    Incorrect.

21. सीखने में प्रयास व भूल के सिद्धान्त का प्रतिपादन किसने किया?
  1. कोहलर
    Incorrect.
  2. पैवलव
    Incorrect.
  3. थार्नडाइक
    Correct! सीखने के प्रयास व भूल के सिद्धान्त का प्रतिपादन थार्नडाइक महोदय ने किया। इसे उद्दीपन अनुक्रिया सिद्धान्त, सम्बन्धवाद/बधंन सिद्धान्त भी कहते है जबकि कोहलर ने सूझ या |अंतर्दृष्टि का सिद्धान्त, पावलोव ने अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धान्त तथा गेस्टाल्ट मनोवैज्ञानिको में कोहलर, कोफ्का लेविन बीमार जैसे मनोवैज्ञानिको के नाम सम्मिलित किये जाते हैं।
  4. गेस्टाल्ट
    Incorrect.

22. सामान्य संयुक्त कोशिका में गुणसूत्रों के जोड़े होते हैं
  1. 22
    Incorrect.
  2. 23
    Correct! सामान्य मानव कोशिका में गुणसूत्रों की संख्या 46 होती है जो 23 के जोड़े में होते हैं। इनमें से 22 गुणसूत्र नर और मादा में समान और अपने-अपने जोड़े के समजात होते हैं इन्हे सम्मिलित रूप से समजात गुणसूत्र (Autosomes) कहते है, 23 वे जोड़े के गुणसूत्र स्त्री और पुरुष में समान नहीं होते जिन्हें विषमजात गुणसू (Heterosporous) कहते हैं।
  3. 24
    Incorrect.
  4. उपर्युक्त में से कोई नहीं
    Incorrect.

23. कोहलर निम्न में से किससे सम्बन्धित है?
  1. अभिप्रेरणा का सिद्धान्त
    Incorrect.
  2. विकास का सिद्धान्त
    Incorrect.
  3. व्यक्तित्व का सिद्धांत
    Incorrect.
  4. अधिगम का सिद्धान्त
    Correct! कोहलर अधिगम के सिद्धान्त से सम्बन्धित है। इनके सीखने/ अधिगम के सिद्धांत को 'गेस्टाल्ट अधिगम सिद्धान्त के नाम से जाना जाता है और इस सिद्धान्त को ही पूर्णाकार सिद्धान्त, समग्र सिद्धान्त, पूर्णाकृति सिद्धान्त, अन्तर्दृष्टि सिद्धान्त या सूझ सिद्धान्त आदि नामों से भी जाना जाता है। इन्होंने अपना प्रयोग सुल्तान नामक चिंपांजी पर किया।

24. क्रियाप्रसूत अनुबन्धन सिद्धान्त का प्रतिपादन किया
  1. हल ने
    Incorrect.
  2. हेगार्टी ने
    Incorrect.
  3. थार्नडाइक ने
    Incorrect.
  4. स्किनर ने
    Correct! सीखने के क्रिया प्रसूत अनुबन्धन सिद्धान्त के प्रवर्तक प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक बी. एफ. स्किनर थे। इनका महत्वपूर्ण प्रयोग चूहे और कबूतर पर था।

25. बुद्धि के तरल क्रिस्टलीय प्रतिमान के प्रतिपादक कौन थे?
  1. कैटेल
    Correct! बुद्धि के तरल क्रिस्टलीय प्रतिमान का प्रतिपादन आर. बी. कैटल ने किया था। कैटल के अनुसार बुद्धि के दो महत्वपूर्ण तत्व क्रैश तरल बुद्धि तथा ठोस बुद्धि हैं। तरल बुद्धि को तर्क के आधार पर नवीन समस्याओं को हल करने की योग्यता के रूप में तथा ठोस बुद्धि को शिक्षा, प्रशिक्षण योग्यता के रूप में परिकल्पित किया गया अनुभव पर आधारित है
  2. थार्नडाइक
    Incorrect.
  3. वर्नन
    Incorrect.
  4. स्किनर
    Incorrect.

26. शिक्षण हेतु मानसिक उद्वेलन प्रतिमान का प्रयोग निम्न में से किसके सुधार हेतु किया जाता है?
  1. समझ
    Incorrect.
  2. अनुप्रयोग
    Incorrect.
  3. सृजनात्मकता
    Correct! शिक्षण हेतु मानसिक उद्देलन प्रतिमान (Brainstorming model) का प्रयोग सृजनात्मकता में सुधार हेतु किया जाता है।
  4. समस्या समाधान
    Incorrect.

27. गोलमैन निम्न में से किससे सम्बन्धित है?
  1. सामाजिक बुद्धि
    Incorrect.
  2. संवेगात्मक बुद्धि
    Correct! संवेगात्मक बुद्धि (Emotional Intelligence) स्वयं की एवं दूसरों की भावनाओं अथवा, संवेगों को समझने, व्यक्त करने और नियंत्रित करने की योग्यता है। डेनियल गोलमैन 'संवेगात्मक बुद्धि नामक पुस्तक लिखकर इस ओर सभी का ध्यान आकर्षित किया।
  3. आध्यात्मिक बुद्धि
    Incorrect.
  4. सामान्य बुद्धि
    Incorrect.

28. निम्न में कौन शेष से भिन्न है?
  1. अधिगम के लिए अधिगम का सिद्धान्त
    Incorrect.
  2. समान अवयवों का सिद्धान्त
    Incorrect.
  3. ड्राइव रिडक्शन सिद्धान्त
    Correct! अधिगम के लिए अधिगम का सिद्धान्त, समान अवयवों का सिद्धान्त, सामान्यीकरण का सिद्धांत ये सभी अधिगम स्थानान्तरण, के सिद्धान्त है। जब ड्राइव रिडक्शन सिद्धांत अधिगम के सिद्धान्त है जिसका प्रतिपादन क्लार्क एल. हल ने किया था
  4. सामान्यीकरण का सिद्धांत ।
    Incorrect.

29. संज्ञानात्मक सम्प्राप्ति का न्यूनतम स्तर है।
  1. ज्ञान
    Correct! संज्ञानात्मक सम्प्राप्ति ज्ञान और बौद्धिक कौशल को शामिल करता है। संज्ञानात्मक सम्प्राप्ति क्रमशः छः चरणों में होता है- ज्ञान, समझ, अनुप्रयोग, विश्लेषण, संश्लेषण और मूल्यांकन।
  2. बोध
    Incorrect.
  3. अनुप्रयोग
    Incorrect.
  4. विश्लेषण
    Incorrect.

30. एक बालक, जो साइकिल चलाना जानता है, मोटरबाइक चलाना सीख रहा है। यह उदाहरण होगा
  1. क्षैतिज अधिगम अन्तरण का
    Incorrect.
  2. ऊर्ध्व अधिगम अन्तरण का
    Correct! जब किसी परिस्थिति में अर्जित ज्ञान, अनुभव, प्रशिक्षण का उपयोग प्राणी के द्वारा किसी अन्य भिन्न प्रकार की अथवा उच्चस्तरीय) परिस्थितियों के अध्ययन में किया जाता है तो इसे सीखने का उर्ध्व अंतरण कहते है।
  3. द्विपार्श्विक अधिगम अन्तरण का
    Incorrect.
  4. कोई भी अधिगम अन्तरण नहीं
    Incorrect.

Axact

Currentjosh

We welcome you all on our education platform currentjosh.in. Here we share study materials all free and contents related to education to help each student personally. Our team members efforts a lot to provide quality and useful selected information for particular subjects and particular topics. Stay in touch with us and with our members who works for this welfare education system and get useful and best study material to get selected.

Post A Comment:

1 comments: